राजीव गांधी और सब इन्स्पेक्टर प्रदीप गुप्ता की दोस्ती की चर्चाएँ

स्व राजीव गांधी को एसपीजी सुरक्षा मिली हुई थी। उन्होंने एक बार एसपीजी अधिकारी को बुला कर कहा कि यार आप लोगों ने हमें पिंजरे में बंद कर रखा है इससे तो बड़ी मुश्किल होती है। कांग्रेस के तमाम नेता और राजीव की सुरक्षा का इंतजाम जिन अधिकारियों को दिया गया था वो इस बात को जानते थे कि राजीव एसपीजी से ज्यादा अपने निजी सुरक्षा अधिकारियों पर ज्यादा भरोसा करते हैं, वह सभी राजीव के मित्र की तरह है, राजीव उनसे व्यक्तिगत हाल चाल भी लेते रहते हैं । राजीव जब पीएम थे मनिंदर और रवि नाम के दो गार्ड लगातार उनके साथ रहे जिनमे यकीनन मनिंदर सरदार था। रवि ने तो राजीव की सुरक्षा में जाने के लिए दिल्ली पुलिस की नौकरी छोड़ दी थी।

यहाँ कहानी प्रदीप की है जो राजीव के एक बेहद प्रिय गार्ड थे। उनका पूरा नाम प्रदीप गुप्ता था। यह वही प्रदीप गुप्ता थे जो राजीव जी के साथ साथ शहीद हो गए थे। प्रदीप गुप्ता को दिल्ली पुलिस के सैकड़ों सब इंस्पेक्टर्स के बीच से केवल इसलिए चुना गया था क्योंकि उनकी कार्यशैली राजीव गांधी के मनमाफिक थी। कुछ ही समय में राजीव गांधी और सब इन्स्पेक्टर प्रदीप गुप्ता की दोस्ती की चर्चाएँ पुलिस विभाग के साथ साथ इंटेलिजेंस और सत्ता के गलियारों में हर जगह थी।

एक बार राजीव को नामीबिया जाना था लेकिन प्रदीप गुप्ता को साथ जाने के लिए दिल्ली पुलिस ने धनराशि स्वीकृत नहीं की तो राजीव ने अपने पैसों से उन्हें ले जाना तय किया। वैसे ही एक बार लन्दन के हीथ्रो एयरपोर्ट पर फ्लाईट में देरी थी तो राजीव ने प्रदीप से कहा कि ड्यूटी फ्री शॉप से कुछ ले लो। प्रदीप गए और लगभग 50 डॉलर में रेबेन का एक चश्मा ले आये, ठीक वैसा ही जैसा राजीव पहनते थे। जब दोनों दिल्ली पहुंचे तो राजीव ने प्रदीप से कहा यार तुम ठग लिए गए हो! मेरा चश्मा पालिका बाजार से है और हमने से केवल 500 रुपये में लिया है।

प्रदीप के घुटने में एक बार चोट लग गई तो लोगों ने देखा राजीव खुद ही प्रदीप को स्प्रे लगा रहे थे । प्रधानमंत्री निवास के लोगों को इस बात की बेहद चिढ होती थी कि प्रदीप का रुतबा खुद कभी कभी पीएम जैसा हो जाता है। जब कभी चंद्रशेखर और वीपी सिंह राजीव से मिलने आते थे अक्सर प्रदीप गुप्ता से ही बात करके अपना काम करा लेते थे। प्रदीप आधी रात को कभी भी राहुल को कार पर बैठकर घुमने निकल जाते थे। राजीव, प्रदीप को कहते थे तुमने मुझसे ज्यादा तेज काम करने की ट्रेनिंग ले रखी है। यह सब यूँही याद आया एक वीडियो देख रहा था जिसमे मोदी अपने गार्ड को डांट कर पहले भगा दिया फिर नौकरी से निकलवा दिया क्योंकि वो फोटो खिंचाते वक्त सामने आ गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button