बिटिया के मरने के बाद भाईयों ने दहेज के सामान के साथ घर में रखा अन्य सामान भी लूटा

पुलिस ने सुनीता के शव को पोस्टमार्टम हेतु जिला मुख्यालय भेजा

लखीमपुर खीरी(आमिर इक़बाल)। सुनीता के अन्तिम संस्कार होने से पहले ही पिता भाइयों सहित सैकड़ों ग्रामीणों ने धावा बोल कर सुनीता के घर का सामान लूट ले गये। यही नहीं गांव के प्रधान इरफान पर दबाव बना रहे थे कि ललित अपने हिस्से की आठ बीघा जमीन भांजे के नाम लिखें अन्यथा पूरे परिवार को दहेज एक्ट में लिखा कर जेल भेजवा देंगे। मृतिका के भायी अनूप द्वारा दी गई तहरीर पर पुलिस ने सुनीता के शव का पंचनामा भरने के पश्चात शव को पोस्टमार्टम हेतु जिला मुख्यालय लखीमपुर भेज दिया है।

घटना के संबंध में बताते हैं कि २७ वर्षीय सुनीता को ओयल स्थित ट्रामा सेंटर में डिलेवरी हेतु भर्ती कराया गया था।लगभग दो घंटे के बाद सुनीता ने बेटे को जन्म दिया। मौक़े पर मौजूद महिला चिकित्सक ने सुनीता से खुशी में मिठाई की गुहार लगाई, पति निरन्तर कह रहा था कि सुनीता का खून रुक नहीं रहा है। पहले उसका इलाज की जिये मिठाई आ जायेगी। हीला हवाली के बाद जब सुनीता का शरीर खून नहीं होने से पीला पड़ गया तब उसे महिला अस्पताल जिला मुख्यालय भेजा गया। जहां महिला अस्पताल पहुंचने से पहले ही सुनीता की मौत हो गई।

थाना खीरी के ग्राम कादीपुर निवासी सुनीता का विवाह कोई चार वर्ष पूर्व ललित के साथ हुआ था। मजे की बात तो यह है कि सुनीता की डिलीवरी के समय सास प्रेमा देवी, साले अनूप, अनुज, मामा मामी सहित माइके पक्ष के तमाम लोग मौजूद थे। सुनीता का नवजात शिशु के दिमाग में पानी भर जाने के कारण चिकित्सकों ने लखनऊ भेज दिया है। प्रातः जब सुनीता के शव की अंतिम तैयारियां हो रही थी, तभी साला अनूप, अनुज, पिता के साथ ७०-८० ग्रामीणों को लेकर आ गया और पूरे परिवार की जमकर पिटाई की और घर में रखा दहेज के सामान के साथ अन्य सामान भी भर ले गया। गांव के प्रधान इरफान ने पूरे घटनाक्रम की जानकारी थाना खीरी से संबद्ध पुलिस चौकी ओयल को दे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button