आईना द्वारा धरा अवतरण का मनाया अमृत महोत्सव !

गिरीश खरे का मनाया गया 75 वां जन्मदिन

Dr.-Mohammad-Kamran Freelance Journalist

ऑल इंडिया न्यूज़पेपर एसोसिएशन, आईना द्वारा अपने कार्यशील, ऊर्जावान, गतिशील साथी गिरीश खरे के जश्ने पैदाइश का बनाया अमृत महोत्सव जैसा बड़ा पर्व। सरहद के जवानों की जांबाज़ी के माहौल और संयुक्त परिवार की मोहब्बत की शान से यादगार बना गिरीश खरे का जन्मोत्सव।

उम्र के 75 वें साल की दहलीज लांग रहे आईना परिवार के संयुक्त सचिव गिरीश खरे को देखकर लगता ही नहीं कि भागती दौड़ती जिंदगी के चौथे पड़ाव की तरफ़ उनकी मंजिल बढ़ गई है। एक सधे हुए बल्लेबाज की तरह शतक बनाने की तरफ अपने पूरे परिवार के साथ एक संयुक्त टीम बनाकर जिस खूबसूरत अंदाज से जिंदगी के इस खेल को खेल रहे हैं वह हम सबके लिए एक प्रेरणा स्रोत है।

संयुक्त परिवार की एकता, ताक़त का ही परिणाम है कि गिरीश खरे के वयोवृद्ध भाई मुस्कराते हुए अपने शाही अंदाज़ में बिना किसी सहारे के अपने क़दमों से चलते हुए आकर बताते है कि उनका शरीर कई बीमारियों का घर है जिसमें कैंसर भी कई सालों से बसता है, जिस बीमारी का नाम सुनते ही इंसान की आधी ज़िंदगी कम हो जाती हो उसको संयुक्त परिवार की एकता, सहजता और सरलता से कैसे हराया जा सकता है इस परिवार से सीखने को मिलता है।

यह भी पड़ें : सुप्रीम कोर्ट में एक भी मुस्लिम जज न होना संयोग नहीं, राजनीति है- शाहनवाज़ आलम

जश्ने पैदाइश के अमृत महोत्सव का दौर जलपान और अल्पाहार से जो शुरू हुआ कब रात्रि भोज में बदल गया पता ही नही चला लेकिन इस परिवार की धुरी के चेहरे पर कहीं कोई थकन और शिकन नही दिखाई दे रही थी, अमृत जैसी ताज़गी बरस रही थी, स्कूल शिक्षिका के साथ साथ कुशल गृहणी और अच्छी माँ के रूप में गिरीश खरे की पुत्रवधू रसोई से स्वादिष्ट व्यंजनों को दस्तरख़ान पर सजा कर इस संयुक्त परिवार की कामयाबी का राज़ बयान कर रही थी।

आईना द्वारा धरा अवतरण का मनाया अमृत महोत्सव !

गिरीश खरे की जश्न ए पैदाइश का ये अमृत महोत्सव उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के रेवती अपार्टमेंट में मनाया गया जो लखनऊ का पहला 25 माले का अपार्टमेंट है और इसके 25वें तल पर गिरीश खरे के संयुक्त परिवार के साथ आईना की टीम अपनी पूरी जांबाज़ी और खुशहाली के साथ मौजूद रही। जिंदगी की एक शाम आईना परिवार ने सरहद पर निगरानी करते हुए जांबाज सिपाही की तरह जीने की जो ठानी थी इसलिए 25 वें तल पर 75 वें जन्मदिन का जश्न यादगार बन गया।

देश की सरहद पर खड़े फौजी जवान को जिस तरह मौत से डर नहीं लगता और शहीद होने का खौफ उसकी आंखों में नहीं दिखाई देता ठीक उसी तरह शहीद पथ के किनारे बने इस रेवती अपार्टमेंट के 25 वें तल पर आईना परिवार की आंखों में ना कोई खौफ था और ना ही शहीद होने का कोई डर दिख रहा था। मौका खुशहाली का था, गिरीश खरे के 75वें जन्मोत्सव का अमृत महोत्सव था इसलिए दिखावटी अग्नि सुरक्षित यंत्रो और लखनऊ विकास प्राधिकरण द्वारा मानकों को दरकिनार करते हुए बनाये गए रेवती अपार्टमेंट में रहने वाले ज़्यादातर लोग भी सरहद के जवान की तरह बेख़ौफ़ और जिंदादिली के साथ अपनी ज़िंदगी गुज़ार रहे है।

यह भी पड़ें : आईना दिखाती पत्रकारिता ज़िंदा है आज तक !

होटल में लगी आग और अग्नि शमन विभाग के भरष्टाचार से इंसानी जिंदगी को लाश बनने की खबर का खौफ़ आम इंसानों के दिलो-दिमाग में छाया हुआ है लेकिन 25 तल के इस रेवती अपार्टमेंट में रहने वाले लोग अपने ही मस्त अंदाज में बेफिक्री के अंदाज में ज़िंदगी गुज़ार रहे हैं। नेशनल बिल्डिंग कोड, अग्निशमन मानकों और लखनऊ विकास प्राधिकरण के निर्धारित नियमों की धज्जियां उड़ाते इस रेवती अपार्टमेंट में जश्ने पैदाइश का अमृत महोत्सव मनाते हुए ये भी जानकारी मिली कि इस अपार्टमेंट की बुनियाद राजनीतिक दल से जुड़े एक ऐसे बड़े नेता ने डाली है जो कहने को विपक्षी पार्टी के टिकट पर चुनाव जीते है लेकिन सत्ता पक्ष के नजदीकी होने के कारण ईडी और सीबीआई उनके दरवाजे तक नहीं पहुंच सकते तो लखनऊ विकास प्राधिकरण और अग्निशमन कार्यालय के अधिकारी भी इस अपार्टमेंट के रास्ते से नही गुज़रते।

आईना द्वारा धरा अवतरण का मनाया अमृत महोत्सव !

शहीद पथ के किनारे ऐसे दर्जनों अपार्टमेंट, होटल, हॉस्पिटल और मॉल अपनी अपनी शहादत और सफेदपोशों की कहानियां समेटे हुए किसी बड़ी दुर्घटना के इंतजार में हैं जिससे शासन प्रशासन की कुम्भकर्णी नींदे खुल सके और अनेक जिंदगियों को शहीद होने से बचाया जा सके। जश्ने पैदाइश का अमृत महोत्सव का आयोजन बड़ा दिलचस्प और यादगार रहा, शहीद पथ के किनारे बने रेवती अपार्टमेंट के 25वें तल से अंधेरे मे शहीद पथ के चारो तरफ फैला भ्रष्टाचार का उजाला चमकता, जगमगाता नज़र आता है, भ्रस्टाचार का बड़ा खेल देखने को मिलता है, सत्ता कोई भी हो लेकिन खेल खेलने में पारंगत और लंबी पहुंच के महारथी की अनेक संपत्तियों का ब्यौरा और जाल भी शहीद पथ के किनारे मिलता है।

मौका जन्मोत्सव का हो या अमृत महोत्सव का, आईना तो आईना है, जो देखेगा, जो समझेगा, वह सब सब कुछ साफ-साफ दिखा देगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button