सेना के जवान से मारपीट कर लाखों की लूट, पुलिस नहीं कर रही कार्रवाई

राजधानी के सीएम जनता दरबार में लगाई गुहार

लखनऊ, देश में हमारी सुरक्षा में लगे सेना के जवानों का पूरा देश सम्मान करता है जो हमारी सुरक्षा करते हुए अपने प्राण न्योछावर कर शहीद तक हो जाते हैं। लेकिन वहीं उन पर अराजक तत्वों द्वारा मारपीट कर लाखों की लूट होती है जो बेहद अफसोस नाक है। वहीं पुलिस की भूमिका भी संदेह के घेरे में आ जाती है जब वह इस लूट की घटना को मामूली धाराओं में दर्ज कर अपने काम की इतिश्री कर लेती है वहीं पुलिस की कार्यप्रणाली से क्षुब्ध होकर जवान ने लखनऊ के सीएम जनता दरबार में इंसाफ की गुहार लगाई है।

पूरा मामला यूपी के भाईपुर थाना विधूना जनपद औरैया का सामने आया है जहां पूना में सेना के जवान अभय सेंगर बीती 15 अप्रैल को अपनी बहन की शादी के लिए छुट्टी लेकर गांव आए थे।

शादी से एक दिन पहले वे खरीददारी के लिए फतेहपुर कैंटीन आए थे जहां से वे फ्रिज, वाशिंग मशीन सहित अन्य सामान खरीदकर वहां मौजूद वाटिका गेस्ट हाउस में अगले दिन होने वाली बहन की शादी के लिए व्यवस्थित कर दिया।

अभय के मुताबिक उसी दिन शाम गेस्ट हाउस में एक शादी समारोह और था जिसमें वहां डीजे पर कुछ लोग नाच रहे थे तभी किसी बात को लेकर उनमें आपस में मारपीट हो गई ये अभय ने बीच बचाव करने की कोशिश की इससे नाराज लोगो ने अभय पर ही लाठी डंडों और राड से हमला बोल दिया और अभय के पास से बैग छीन लिया जिसमें ढाई लाख रुपए नगद थे लूट लिए साथ ही हमलावर अभय के गले से सोने की चेन भी लूट ले गए।

बेहोशी हालत में पड़े अभय की सूचना पास में मौजूद किसी ने उनके घर वालों को दी उसके बाद घायल अवस्था में अभय को स्थानीय स्वस्थ केंद्र उपचार के लिए ले जाया गया जहां उन्हें गंभीर अवस्था में सैफई रेफर कर दिया गया।

अभय के मुताबिक पूरी घटना की जानकारी पुलिस को दी गई आरोप है कि पुलिस ने लूट की घटना को मारपीट की हल्की धाराओं में मुकद्दमा दर्ज किया है जिससे पुलिस की भूमिका से नाराज़ अभय ने सीएम जनता दरबार में प्रार्थना पत्र दिया है और पूरी घटना से पुलिस के आलाधिकारियों को भी अवगत कराया है।

अब देखना होगा कि सेना के इस जवान को इंसाफ कब मिलेगा? हालांकि प्रदेश के मुखिया योगी आदित्यनाथ अपराध को लेकर काफी संवेदन शील हैं जिससे सेना के इस जवान को भी इंसाफ मिलने की आस है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button