सोशल मीडिया सभी मीडिया से तेज

अविनाश कुमार पाण्डेय

आजकल सोशल मीडिया सभी मीडिया से तेज रफ्तार पकड़े हैं उसका सीधा सा करण या है की इस पर कोई भी अपने अनुभव के अनुसार पत्रकारिता करने लगता है और इसके साथ साथ व्हाट्सएप यूट्यूब की पत्रकारिता को नमन है बिना किसी रजिस्ट्रेशन या अथॉरिटी की धड़ल्ले से चला रहे मीडिया की दुकान मीडिया की परिभाषा से मिलो दूर उनकी जानकारी है इसी कारण मीडिया की आज यह दुर्दशा है पत्रकारिता के लिए कुछ नियम कानून होना बहुत आवश्यक है हर इंसान पत्रकार नहीं होता है इसके लिए क्षेत्र में जिस भी क्षेत्र की रुचि हो उस क्षेत्र की जमीनी स्तर पर जानकारी होना अति आवश्यक है तभी आप पत्रकारिता क्षेत्र में सफल हो सकोगे क्योंकि हवा में तीर चलाना पत्रकारिता कि श्रेणी मैं नहीं आता है लेकिन आज के समय बोलबाला हवा हवाई पत्रकारिता का ज्यादा है चापलूसी चाटुकारिता मक्खन बाजी को पत्रकारिता कहने लगे हैं इसलिए कहते हैं क्योंकि मूल पत्रकारिता की जानकारी और इतिहास पड़ा या जाना हो तब तो पता चले की पत्रकारिता क्या होती है लेकिन यहां भाग दौड़ में जो आज के दौर कि लोग पत्रकारिता कर रहे उसे कॉपी पेस्ट कहते हैं डिजिटल आधुनिक दौर में सबके पास एंड्राइड मोबाइल है तो सभी पत्रकार भी हैं इन सबसे मीडिया की दुर्भाग्यपूर्ण स्थित होती जा रही है मीडिया को व्यवसाय बना दिया जिसको भी नया व्यापार शुरू करना होता है वह मोबाइल पत्रकारिता का ऑफिस खोल लेते है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button