55 वर्षीय फूलमती ने थाने के भीतर तोड़ा दम

लखीमपुर खीरी (आमिर इक़बाल )। थाना मैलानी में रिपोर्ट लिखाने गयी 55 वर्षीय फूलमती थाने के भीतर गिड़गिड़ा गिड़गिड़ा कर मर गयी। परंतु थाना प्रभारी ने उसकी सुध नहीं ली। मरने के बाद अपनी करतूतों को छुपाने के लिए फूलमती का शव मौत की पुष्टि के लिए सीएचसी बांकेगंज ले गये जहां डियूटी पर तैनात डाक्टर ने दरोगा जी को फूलमती की मौत का लखीमपुर खीरी।

यह भी पढ़ें : निराला नगर के सरस्वती कुंज में आजादी के अमृत महोत्सव पर आयोजित राष्ट्रहित सर्वोपरि का हुआ समापन!!

थाना मैलानी में रिपोर्ट लिखाने गयी 55 वर्षीय फूलमती थाने के भीतर गिड़गिड़ा गिड़गिड़ा कर मर गयी। परंतु थाना प्रभारी ने उसकी सुध नहीं ली। मरने के बाद अपनी करतूतों को छुपाने के लिए फूलमती का शव मौत की पुष्टि के लिए सीएचसी बांकेगंज ले गये जहां डियूटी पर तैनात डाक्टर ने दरोगा जी को फूलमती की मौत का प्रमाण दे दिया। पुलिस ने फूलमती के शव का पंचनामा भरने के पश्चात शव को पोस्टमार्टम हेतु जिला मुख्यालय लखीमपुर भेज दिया। प्रमाण दे दिया।

पुलिस ने फूलमती के शव का पंचनामा भरने के पश्चात शव को पोस्टमार्टम हेतु जिला मुख्यालय लखीमपुर भेज दिया। थाना मैलानी के ग्राम तिलक पुर निवासी मृतक के भायी सोबरन लाल ने बताया कि 11 अगस्त को गांव के ही सर्वजीत व रवी कच्ची शराब पीकर पूरे गांव में तेज मोटरसाइकिल दौड़ा रहे थे। तभी महेश ने दोनों को टोका कि मोटरसाइकिल से कोई बच्चा दब जायेगा। इतना सुनते ही दोनों बाईक से उतर कर झगड़ा करने लगे।

यह भी पढ़ें : 15 अगस्त 1947 की आजादी का जश्न और अमृत महोत्सव 75 वें में बदलता परिवेश 2022

इसी बीच झगड़े का बीडियो बना रही 16 वर्षीय ज्योती को उक्त लोगों ने झापड़ मार दिया। फिर क्या था गांव वालों ने दोनों को खदेड़ दिया।साम होते ही उक्त हमला वरों ने धारदार हथियार और लाठियों से पुनः हमला कर दिया। जिसमें महेश सहित लगभग आधा दर्जन लोग घायल हो गये। पुलिस ने दोनों पक्षों का 151 में चालान करके अपनी जान बचा ली। परंतु हंगामे बीच चले अध्धों में फूल मती फंस गयी और उसके कमी अन्ने लगे थे।शोबरन लाल ने थाने में दी गयी तहरीर में राम श्री, रामसिंह, शर्वजीत, अमर सिंह व रवि को फूलमती का हत्यारा बताया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button